11/04/2021

Scientific study tips छात्रों के लिए… ‘‘The whoooo.. mantra’’

हल्की सांस लेना(Shallow Breathing)
सुषुमना नाड़ी (sushumna nadi)
मस्तिष्क तरंगें (brain waves)

जनरली देखा जाये तो आजकल बच्चे अच्छे से study नहीं कर पाते उनके सामने तरह तरह के डिस्ट्राक्शन (distraction) होते हैं और बहुत सारी चीजों को लेके वो डरते भी रहते है जिसकी वजह से वह पढ़ाई में एकदम  ध्यान नहीं लगा पाते हैं। इतनी सारी चीजे उनके दिमाग में पहले से चलती रहती है फिर उनका एग्जाम आ जाता है फिर तो और ज्यादा प्रॉब्लम फेस करते है बच्चे, अब अगर बात करे तो इसके पीछे बहुत बड़ा science है। नॉर्मली बात करें अगर तो बच्चे पढ़ाई दिमाग से करते है ना कि हाथ, पैर या पेट से, तो ब्रेन यानि दिमाग का science समझना बहुत जरुरी है।

Example: मान लीजिये कोई कार है वो खराब है तो अगर उसका पूरा मैकेनिकल सिस्टम आता होगा तभी आप उसे सही कर पायंगे, इसी तरह ब्रेन यानि दिमाग का भी  आपको सारा मैकेनिकल सिस्टम आपको समझ आ जाये तो आप अच्छे से पढ़ाई कर पाओगे। सिर्फ स्कूल का ही नहीं बल्कि आगे कोई भी एग्जाम या किसी भी एग्जाम की तयारी करने में हेल्प मिलेगी आपको।

बच्चो के जैसे एक्साम्स (exams) आते है, मान लो 12th की परीक्षा आने वाले होती है तो बच्चे रोज़ाना  8 , 9 घंटे पढ़ते है फिर भी वो डरे रहते है की कुछ सही से तैयार नहीं इत्यादि। अब इसमें साइंस यह है की वो 9 घंटे पढ़ते नहीं सिर्फ पढ़ने बैठते है, पढ़ते तो सिर्फ कही आधा घंटा या ज्यादा से ज्यादा  1 घंटा ही हैं ।

अब बात करे जब आप पढ़ने बैठते है तो नोटिस किया होगा आपका दिमाग बहुत सारी  जगह चलता है, डरता भी है चाहे वो आगे एग्जाम को लेके ता पास्ट का कोई फ्रेंड या कुछ भी विचार चलता रहता है। अब अच्छे से पढ़ाई करने के लिए तो दिमाग का शांत होना जरुरी है, उसके लिए कुछ points पे बात करते है नीचे।

PROBLEM 1. हल्की सांस लेना(Shallow Breathing):

आसान शब्दों में कहा जाये तो सांस हम दो तरीके से लेते हैं – सीने से और पेट से ।आप तुरंत चेक करिये आपकी सांस अगर chest से सिर्फ आ रही तो आप कभी अच्छे से पढ़ाई नहीं कर पाओगे। इसको भी check करना है तो रूम में लेट जाइये और एक किताब chest पे रखिये और एक किताब अपने पेट पे और आप कुछ observe  करिये या कुछ सोचिये। साथ ही किसी 3rd पर्सन को कहिये कि वो देखे आपको अगर आपकी सांस चेस्ट से आ रही तो आप अच्छे से पढ़ाई नहीं कर पाओगे, मतलब  अगर साँसे छोटी है या तेज है टी कभी अच्छे से पढ़ाई नहीं होगी।

तो अब जरुरी ये है की आपकी सांस पेट से आनी चाइये एकदम deep breathing. इसके पीछे का science ये है कि जब हम छोटी सांस यानि chest  से लेते है तो  हमारी बॉडी में बहुत सारी carbon dioxide(co2) बॉडी में ही छूट जाती है, हमारे lungs में 5000 ml capacity होती है, तो जब हम छोटी सांस लेते है तो सिर्फ 500ml ही बाहर जा पाती  है carbon dioxide(co2), बाकि का 4500ml  अंदर बॉडी में ही रह जाता है, ज्यादा carbon dioxide(co2) का मतलब आपका  brain की मैक्सिमम पावर धीमा यानि slow हो जायगा, विचार तेज चलेंगे उसमे आप पढ़ाई कभी नहीं कर पाओगे अच्छे से।

इसका सीधा मतलब  ये है कि सांस आपके पेट यानि stomach  से आनी चाइये एकदम deep breath- लम्बी सांस।

PROBLEM 2. सुषुमना नाड़ी (sushumna nadi):

अब बात करते है दूसरी प्रॉब्लम जिससे पढ़ाई में concentrate नहीं कर पाते  हैं वो है हमारे नाक- उसमे 2 नॉस्टल होते है एक left और right, ज्यादा तर एक ही नॉस्टल एक्टिव रहता है, चाहे तो चेक कर  सकते है। जब दोनों नॉस्टल एक्टिव रहेंगे और अगर दोनों से सांस अच्छे से और धीरे आ रही तो उस समय आप अच्छे से पढ़ाई कर सकते है।

 

PROBLEM 3. मस्तिष्क तरंगें (brain waves):

जी हाँ हमारे दिमाग में waves होते है। अगर हमारा दिमाग शांत है तो alpha  wave(अल्फा वेव) एक्टिव है, दिमाग अगर थोड़ा तेज तो beta वेव एक्टिव है। और अगर दिमाग गुस्से या डर  किसी चीज में ज्यादा तेज है तो theta वेव एक्टिव , इसमें एकदम कुछ भी नहीं करने का मन होगा। तो इसका हल ये है  की आपके दिमाग में अल्फा वेव एक्टिव रहे तब आप शांत रहेंगे और पढ़ाई अच्छे से हो पाएगी।

अब बात आती है की अल्फा वेव एक्टिव हमेशा कैसे रखे या  हमारा दिमाग शांत कैसे रहे? 

अब इन सब चीज का एक बहुत बढ़िया solution है। आप लोग को एक meditation करना बताता हूँ , यह बहुत ही scientific मैडिटेशन है इसको आप करिये।

कैसे करे ??

जब भी आप पढ़ने जा रहे हो या कुछ भी गुस्सा या स्ट्रेस फील कर रहे हो बस उसी वक़्त इसको प्रैक्टिस में ले आइये और सुबह-शाम 10 या 15 minute. खाली पेट करिये । 

–आप खाली पेट room में खड़े हो जाइये अपने legs को थोड़ा खोल ले और बॉडी एकदम ढीला छोड़ दे । अब आपको ज़ोर ज़ोर से मुँह से whoooo whoooo whoooo  (व्हॅऊ व्हॅऊ) करते रहना है 10 या 15 minute तक. जब आप ये करते है तो आपके stomach यानि पेट के नीचे नाभी पर असर पड़ता है , इ इससे नाभि से एनर्जी ऊपर आने लगती है और सारी  carbon dioxide(co2) बाहर बॉडी से निकल जाती है। इसके साथ ही ताज़ी ऑक्सीजन (oxygen) बॉडी के अंदर बहुत अधिक मात्रा (quantity) में आ जाती है। इससे आपके ब्रेन यानि दीमाग में अल्फा वेव एक्टिव होना शुरू हो जाती है। अब आप पढ़ाई करते है तो एकदम एकाग्रता (concentration) के साथ करते हैं ।, इसको प्रैक्टिस में रखिये डेली कभी stress या कोई भी प्रॉब्लम दिमाग में नहीं होगी।

आपको शुरुआत में करने में थोड़ा अजीब लग सकता है ये मैडिटेशन लेकिन यहाँ बात पसंद और नापसंद की नहीं है। जरुरी ये हैं की आप इस मैडिटेशन को एक बार try करे और अपने दिमाग पर इसका असर देखें।  सामान्यता १०-१२ दिन में इसका असर आपको दिखना शुरू हो जायेगा।

-मानव मस्तिष्क सबसे शक्तिशाली हथियार है

Thank you.

2 thoughts on “Scientific study tips छात्रों के लिए… ‘‘The whoooo.. mantra’’

  1. By doing our brain will always be able to keep their mind silent in every condition.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Stay Updated!Subscribe करें और हमारे Latest Articles सबसे पहले पढ़े।