11/04/2021

Ranveer singh’s life story रनवीर सिंह के जीवन की कहानी

सिंह दूर के रिश्ते में सोनम कपूर के भाई लगते है
रनवीर सिंह से जब उनके सेक्स लाइफ के बारे मे पूछा गया तो उन्होंने

जी हाँ बिटटू कहे कि राम गुंडे कहे की बाजीराव नाम है इनका रनवीर सिंह भवनानी। Energy के मामले में आग का गोला है ये। ये कहानी है जबरदस्त सुपर स्टार रनवीर सिंह की।

रनवीर का जन्म 6 जुलाई 1985 को एक सिंधी परिवार में हुआ। उनके पिता का नाम जगजीत सिंह भावनानी और माता का नाम अंजू है । उनके दादा-दादी का नाम सुंदर सिंह भावनानी और चाँद बुर्के थे, जो विभाजन के बाद कराची, सिंध से मुंबई स्थानांतरित हुए थे। इनकी एक बड़ी बहन रितिका भावनानी भी है और सिंह दूर के रिश्ते में सोनम कपूर के भाई लगते है यानि अर्जुन कपूर के भी। ये रिश्ता कैसे ? अर्जुन कपूर के चाचू यानि अनिल कपूर की पत्नी(wife) सुनीता कपूर का रिश्ता इनसे  बनता है।

सिंह हमेशा से ही अभिनेता बनना चाहते थे एक बार की बात है बचपन में ये एक बच्चे के बर्थडे(जन्मदिन) में गए थे बस इनकी दादी ने कहा बेटा कोई डांस कर के दिखाओ बस  फिर क्या जुम्मा चुम्मा देदे गाने पे बहुत जबरदस्त डांस किया लोगो ने खूब जम कर तालियां बजाई। और एक कलाकार को तालियां ही चाइये होती है बस तबसे सिंह ने तय किया कि acting ही करनी है। इसके लिये वे स्कूल में आयोजित बहुत से नाटको और बहुत सी वक्तृत्व स्पर्धाओ में भी हिस्सा लेते थे।

फिर एच.आर. कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स एंड इकोनॉमिक्स, मुंबई में दाखिल होने के बाद रनवीर  सिंह को अनुभव हुआ की फिल्मो में काम करना इतना भी आसान काम नही है, क्योकि उन्हें बहुत से लोगो ने यही बताया था की जिनका पारिवारिक इतिहास फिल्मो से जुड़ा हुआ होता है वही फिल्म क्षेत्र में आगे बढ़ सकते है। फिर लिहाजा ये creative writing यानि लेखन में चले गए और यूनाइटेड स्टेट अमेरिका(USA) की इंडिआना यूनिवर्सिटी से उन्होंने बैचलर ऑफ़ आर्ट्स में ये कोर्स किया। यूनिवर्सिटी में, उन्होंने एक्टिंग का प्रशिक्षण भी लिया था और किशोरावस्था में ही वे थिएटर में जाने लगे थे। पढाई पूरी करने के बाद 2007 में मुंबई वापिस आ गए। हालांकि फिर कुछ सालो तक ओ & एम और जे. वाल्टर थोपसन जैसी ad एजेंसी के लिये वो बतौर कॉपी writing करते थे। फिर भी इन्होने अपना acting का सपना नहीं छोड़ा। साथ ही ये जा के ऑडिशन भी दिया करते थे लेकिन इनको निराशा ही मिल रही थी। इसके बाद उन्होंने असिस्टेंट डायरेक्टर का काम किया था, लेकिन फिर एक्टिंग में कैरियर बनाने के लिये उन्होंने इस काम को भी छोड़ दिया था। इसके बाद वे एक्टिंग के लिये होने वाले सभी ऑडिशन में जाने लगे थे लेकिन उन सभी में उन्हें सफलता नही मिल सकी। ऑडिशन के बाद उन्हें फिल्मो में केवल छोटे-छोटे रोल ही मिलने लगे थे। लेकिन सिंह ने कभी हार नहीं मानी। 

उसके बाद इनके दोस्तों ने इनको बताया कि तुमको western एक्टिंग का तजुर्बा तो है लेकिन यहाँ का होना भी बहुत जरुरी है बस फिर सिंह ने मुमबई में पृथ्वी थिएटर ज्वाइन कर लिया क्योकि वह बहुत अच्छे अच्छे actor आया करते थे और उनसे सीखने के लिए सिंह उनको कॉफ़ी, चाय भी पिलाया करते थे वहां से इनके जान पहचान और जागरूकता काफी ज्यादा बढ़ी, साथ ही acting स्किल और  होती चली गयी।  फिर सिंह बतौर असिस्टेंट डायरेक्टर और ऑडिशन देने लगे फिर एक दिन इनकी मुलाकात हुई director मनीष शर्मा से सिंह को yashraj banner की Film ‘Band baja barat’ के लिए ऑडिशन किया गया, और फिर इनकी मुलाकात हुई इनके फेवरिट director आदित्य चोपड़ा से, तो इनकी खुशी का ठिकाना न था। रनवीर को बताया गया की ये इस film के hero बनेंगे तो यह खुशखबरी सुनते ही ये फूट-फूट कर रोने लगे तब आदित्य चोपड़ा ने इनकी पीठ थप थपाई और कहा बच्चे तू कर लेगा चिंता ना कर।

शूटिंग शुरू हुई और दिल्ली की भीड़ भाड़ वाली SDA मार्किट में शूटिंग चल रही थी जहां पर एक अंग्रेजी शराब की दुकान भी थी जहां कस्टमर नहीं जा पा रहे थे क्यकि रनवीर सिंह की फिल्म की यूनिट हर जगह फैली हुई थी। ऐसे में  दुकानदार गरम हो और बहुत  गुस्सा करने  लगा। तब रनवीर सिंह ने जा के हाथ पैर जोड़े और कहा की सर ये मेरी पहली film है please थोड़ी देर शूटिंग करने दो, ये सुनते ही दिलदार दुकानदार ने कहा जा बेटा जितनी देर शूटिंग करनी है करले मेरा आशीर्वाद हमेशा तेरे साथ है बस फिर बिटटू शर्मा का किरदार इन्होने ऐसे निभाया की यशराज बैनर के फेवरिट हो गए। फिर रनवीर सिंह ने एक के बाद एक फिल्म की चाहे वो फिर Ladies vs Ricky Bahl हो, या फिर gundey, kill dil को कौन भूल सकता है और फिर संजय लीला भंसाली की goliyon ki raasleela ram-leela में इन्होने ऐसा अभिनय किया की चार चाँद लग गए। फिर उसमे सिंह के साथ दिपिका पादुकोन की जोड़ी को सबने सराहा।  

रनवीर  के अनुसार उनकी दादी अमिताभ बच्चन की बहुत बड़ी फैन थी और उन्होंने उन्हें हमेशा उनके जैसे बनने की प्रेरणा दी थी इसलिए सिंह कहते हैं कि “अगर आज मैं हीरो हूँ तो तमाम उन छोटी बड़ी बातों के साथ दादी की बातों से भी मैंने प्रेरणा ली है-उन्होंने हमेशा मुझे प्रेरणा दी है।“

रनवीर सिंह उन गिने चुने लोगो में से भी है जो सेलेब्रिटी होने के बाद भी अपने विचारो और सामाजिक विषयों पर अपनी बेबाक राय रखने के लिए जाने जाते है। रनवीर सिंह से जब उनके सेक्स लाइफ के बारे मे पूछा गया तो उन्होंने अपने विचार काफी सहज तौर पर इस तरह रखे “ कि वो अपनी सेक्स लाइफ को बेहद अलग तरह से लेते है और वह काफी एक्टिव है क्योंकि मैं सेक्स के बिना नहीं रह सकता हूँ।”

रनवीर सिंह को अपनी भूमिका के लिए सर्वश्रेष्ठ नए पुरुष अभिनेता के फ़िल्मफेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इसके बाद उन्होने कई फ़िल्मो मे काम किया,  2015 मे रिलीज़ हुवी रनवीर सिंह की सूपर हिट फिल्म बाजी राव मस्तानी के लिए उन्हे बेस्ट एक्टर का फ़िल्मफेयर पुरस्कार से नवाज़ा गया।  वैसे रनवीर  सिंह फ़िल्मो के अलावा सामाजिक कामो मे भी आगे रहते है, आज वो दीपिका पादुकोन के साथ शादी कर के एक बेहद अच्छी लाइफ जी रहे। 

तो यह है फिल्मो के बाजीराव की असल कहानी जो बॉलीवुड में उनके संघर्ष को बयाँ करती है। और बताती है की अगर इंसान के अंदर कुछ कर गुजरने की इच्छा हो तो जाहिर तौर पर हर इंसान अपने सपनों को पूरा करने की काबीलियत रखता है। बाकी आज के इस युग में शायद ही कोई हो जो सिंह को न जानता हो। बाकी सब इतिहास है अब। हम सभी रनवीर  सिंह के इस हौसले को सलाम करते है।

    -जो अपने क़दमों की काबिलियत पर विश्वाश रखते हैं, वही अक्सर मंजिल पे पहुंचते हैं।  

Thank you.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Stay Updated!Subscribe करें और हमारे Latest Articles सबसे पहले पढ़े।