30/11/2021

Ikigai Book summary in hindi (पुस्तक सारांश हिंदी में) Japanese secret to a long life!

हम सभी एक सुखी और पूर्ण जीवन जीना चाहते हैं। हालाँकि, जीवन के दौरान, हम कई स्थितियों का सामना करते हैं जो हमें दुखी, भ्रमित या तनावग्रस्त बनाती हैं। हम में से अधिकांश लोग एक सुखी और सफल जीवन जीने का उत्तर खोजने की कोशिश कर रहे हैं। यह जापानी किताब Ikigai लंबे और स्वस्थ जीवन जीने के जापानी रहस्यों का खुलासा करती है। यह हमें ऐसा करियर चुनने में भी मार्गदर्शन करती है जो हमारे जीवन में समृद्धि लाएगा। आइए समझते हैं कि ikigai meaning क्या है और यह कैसे हमारे जीवन को बदल सकता है। Ikigai book summary –

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि दूसरे विश्व युद्ध के दौरान जापान को हिरोशिमा और नागासाकी की बमबारी से बड़ा नुकसान हुआ था। इस घटना के बाद जापान सबसे मजबूत देशों में से एक के रूप में उभरा जो अमेरिका के सामने भी खड़ा हो सकता है। न केवल तकनीक बल्कि जापानी लोगों का औसत जीवन काल भी सराहनीय है। जापान में अधिकांश लोग ikigai के सिद्धांत का पालन करते हैं।

Ikigai शब्द दो शब्दों iki से बना है, जिसका अर्थ है ‘जीवन’ और kai, जिसका अर्थ है ‘आशाओं और अपेक्षाओं की प्राप्ति’। Ikigai का एक और अर्थ है – ‘सुबह बिस्तर से उठने का कारण’  होना।

अपनी Ikigai कैसे खोजें ?

आइए अब समझते हैं कि ikigai क्या है और हम इसका उपयोग कैसे कर सकते हैं? Ikigai हमारे बारे में कुछ ऐसा बताता है जो की अद्वितीय है, कुछ ऐसा जो हमारे अंदर है और हमें खोजने की जरूरत है। यदि हम अपने ikigai को खोजने में सक्षम हैं तो हम जीवन में अपना उद्देश्य पा सकते हैं। यह हमें सही करियर पथ चुनने में भी काफी मदद कर सकता है। अपनी ikigai खोजने के लिए इन चरणों का पालन करें –

Ikigai book summary. Ikigai meaning.


1) आप जो करना पसंद करते हैं उसे खोजें। आप जो कुछ भी करना पसंद करते हैं और आप उसे अच्छी तरह से कर सकते हैं वह आपका (Passion )जुनून है। अपने जुनून को खोजना अपने ikigai को खोजने की दिशा में पहला कदम है।

2) अगर आपको कोई ऐसी चीज मिल जाए जिसमें आप अच्छे हैं और आप उस काम को करके पैसा भी कमा सकते हैं, तो वह आपका (Profession )पेशा होना चाहिए। पेशा होना आपकी ikigai खोजने की दिशा में दूसरा कदम है।

३) अगर आप कुछ ऐसा करके पैसा कमा सकते हैं जिसकी दुनिया को जरूरत है या जिससे दुनिया के लोगों का लाभ हो तो वह आपका वोकेशन(Vocation) है।

4) अगर आप कुछ ऐसा कर रहे हैं जिसकी दुनिया को अभी जरूरत है और आपको यह काम करना पसंद है, तो यह आपका (Mission )मिशन है।

आपकी ikigai इन सभी 4 गुणो से मिलकर बनी है जिसे नीचे venn diagram  द्वारा समझाया गया है। जैसा कि आप देख सकते हैं कि चार गुण भी एक दूसरे के साथ ओवरलैप(overlap) करते हैं और केंद्र में आपकी ikigai है। यदि आप जो कुछ भी कर रहे हैं उससे आपको उपरोक्त सभी प्रश्नों का उत्तर मिल रहा है, तो आपको अपनी ikigai मिल गई है।

आपकी ikigai को खोजने में आपकी जीवनशैली की प्रमुख भूमिका होती है। पुस्तक लंबे और स्वस्थ जीवन जीने के कुछ सिद्ध तरीके भी बताती है।Ikigai जापानी द्वीप Okinawa के संदर्भ में  लिखी गयी पुस्तक है जहां लोगों की औसत आयु 90 वर्ष है। इन लोगों का साक्षात्कार लेने पर वे निम्नलिखित जीवनशैली में बदलाव का सुझाव देते हैं-

Ikigai पुस्तक में बताये गए 10 नियम-

  • अपने आप को अच्छे दोस्तों से घेरें।
  • धीमी गति से जीवन जियें ।
  • खाना खाते वक़्त अपना पेट पूरी तरह से न भरें। 
  • अपने शरीर को सुडोल बनाएं ।
  • वर्तमान में रहें ।
  • हमेशा मुस्कुराएं ।
  • सक्रिय रहें,  सेवानिवृत्त न हों।
  • प्रकृति के साथ जुड़ें।
  • आभारी रहना सीखें ।
  • अपने ikigai को ढूंढे और उसका  पालन करें।
  • आइए इन नियमों के बारे में विस्तार से जानते हैं।

1) तनाव –हमेशा तनाव से दूर रहें। तनाव मुक्त होने के लिए हमें समय-समय पर धीमा और आराम करने की आवश्यकता है। जीवन को एक दौड़ की तरह मत समझो। हालाँकि, थोड़ा तनाव अच्छा है क्योंकि यह दर्शाता है कि आप जीवन में आगे बढ़ना चाहते हैं।

2) खान -पान – जापानी लोग स्वास्थ्य के प्रति बहुत जागरूक होते हैं। वे सुनिश्चित करते हैं कि वे हमेशा संतुलित आहार लें। लंबी उम्र के लिए हमें अपना पेट 80% तक ही भरना चाहिए। उनके आहार में फल, सब्जियां और मछली शामिल हैं। वे हमेशा अपने कैलोरी सेवन के प्रति सचेत रहते हैं।

3) जीवनशैली –आप जो कुछ भी करते हैं उसमें अपना प्रवाह खोजें – यह अभ्यास एक पल में जीने पर केंद्रित है। एक समय में केवल एक ही चीज़ पर ध्यान केंद्रित करें । यदि हम केवल एक चीज पर ध्यान केंद्रित करते हैं तो यह हमारी उत्पादकता को बढ़ाता है और कार्य में समय भी कम लगता है। इसके अलावा, हमें ऐसी गतिविधियाँ अधिक करनी चाहिए जिनका हम आनंद ले सकें। यह हमें जीवन में अपने उद्देश्य का पालन करने में मदद करता है।

4)  आत्म विकास – स्वस्थ जीवन जीने के लिए हम सभी को कुछ आदतों को विकसित करना चाहिए। प्रतिदिन टहलना, ध्यान, योग, सूर्य नमस्कार, पर्याप्त नींद लेना, जल्दी सोना, सोने से पहले इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का उपयोग न करना इसके कुछ उदाहरण हैं। साथ ही धीमी गति से जीवन जीने की कोशिश करें। हमेशा जल्दी में रहने से हमारे जीवन की गुणवत्ता का नाश होता है। इसके अलावा, जब तक हो सके सक्रिय रहें। कई जापानी लोग कभी सेवानिवृत्त नहीं होते हैं।

Ikigai book summary के अलावा इस पुस्तक में ऐसा और बहुत कुछ है जिससे आपका जीवन और खुशहाल और संपूर्ण बन सकता है। आप यहाँ(click here) से इस पुस्तक को खरीद सकते हैं।


पुस्तक से याद रखने योग्य (Quotes) उद्धरण –

“धीरे चलो और तुम बहुत दूर चले जाओगे।”

“एक खुश व्यक्ति भविष्य की चिंता करने की बजाये वर्तमान से बहुत संतुष्ट रहता  है।”

“जिसके पास जीने का कारण है वह लगभग किसी भी तरह आगे बढ़ता जायेगा ।”

“हम सब मरने जा रहे हैं। कुछ लोग मरने से डरते हैं। मरने से कभी मत डरो। क्योंकि तुम मरने के लिए पैदा हुए हो।”

“जब एक बड़े लक्ष्य का सामना करना पड़ता है, तो इसे भागों में तोड़ने का प्रयास करें और फिर प्रत्येक भाग पर एक-एक करके हमला करें।”

“30 मिनट बैठने के बाद चयापचय(Metabolism) 90 प्रतिशत धीमा हो जाता है।”


Read More:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Stay Updated!Subscribe करें और हमारे Latest Articles सबसे पहले पढ़े।